नोएडा- सिटी सेंटर से भागा युवक निकला कोरोना पॉजिटिव टीम पहुंची गांव

कोरोना  मरीज जिसकी उम्र 37 साल है वह नोएडा में किसी ढाबे पर काम किया करता था कुछ दिनों से उसके अंदर कोरोना के लक्षण देखने को मिल रहे थे उसके बाद कोरोना भी आशंका मैं नोएडा के एक क्वॉरंटीन  सेंटर में उसे रखा गया था।

Advertisement
 Corona positive
Corona Positive

**उसके परिवार के 9 लोगों को Quarantine किया गया।

 **नोएडा से आई हुई टीम युवक को दोबारा अपने साथ करंट टाइम       सेंटर में ले गई।

थाना अलीगढ़ के खेर  इलाके में एक युवक ने पूरे ग्राम वासियों को एक बहुत बड़ी मुसीबत में डाल दिया इस समय पूरा गांव कोरोना की दहशत में जी रहा है दरअसल नोएडा कि Quarantine सेंटर से एक युवक भागा था जिसकी रिपोर्ट अब पॉजिटिव आई है जिसकी वजह से पूरे इलाके में हड़कंप मचा हुआ है और पूरा गांव उसकी वजह से परेशानी झेल रहा है।

 यहां हम बताते चलें की कोरोना की आशंका में गेट नैना में स्थित गलगोटिया इंस्टिट्यूट मैं एक Quarantine सेंटर मैं युवक को Quarantine में रखा गया था जहां से वह भाग का अलीगढ़ के खेल इलाके स्थित गांव मोर आ गया था जिसके बाद उसी युवक की कोरोना की पुष्टि हुई है।

 जानकारी मिलने के  साथ ही आनन-फानन में प्रशासन की एक टीम उसे पकड़ने के लिए उसके घर पहुंचे और उस युवक को नोएडा के लिए वापस ले आए तब तक  युवक ने  अपने परिवार सहित सभी लोगों के साथ में रह रहा था और सभी के संपर्क में आ चुका था जिसके बाद कोरोना मरीज के संपर्क में आए हुए परिवार के सदस्यों को और गांव के 9 लोगों को स्वास्थ्य विभाग  ने   छेरत स्थित आइसोलेशन सेंटर में क्वॉरेंटाइन किया गया है उसके साथ ही पूरे गांव को sanitise किया गया है।

जानकारी के हिसाब से कोरोना मरीज की उम्र करीब 37 वर्ष की है और वह नोएडा में ही किसी ढाबे पर काम किया करता था कुछ दिनों से उसमें कोरोना के लक्षण दिखाई दे रहे थे जिसके बाद कोरोना के शक की आशंका को देखते हुए उसे नोएडा के ही क्वॉरेंटाइन सेंटर में भर्ती करा दिया गया था और कारंटाइंड सेंटर में ही उसका सैंपल भी लिया गया था लेकिन कुछ दिनों बाद ही मरीज वहां से कर्मचारियों को चकमा देकर फरार हो गया था इसकी वजह से पूरा गांव मुसीबत में आ गया और पूरे गांव को सेंट्राइस करना पड़ा फिलहाल वह नोएडा टीम के द्वारा उसे क्वॉरेंटाइन सेंटर में ले जाया गया है।

यहां पर हम आपसे रिक्वेस्ट करना चाहते हैं कि आप सरकार का सहयोग करें और जो हमारे शासन प्रशासन और इस वैश्विक महामारी में जुड़े हुए लोगों के प्रति अपना अपना सम्मान व्यक्त करें ना कि उनको परेशान करें यह सम्मान उनके लिए आज बहुत ही ज्यादा आवश्यक है जिसकी वजह से उनका मनोबल सातवें आसमान पर होता है और वह इस वैश्विक महामारी को रोकने में और ज्यादा सफल हो पाएंगे अगर हम उनका मनोबल डाउन करेंगे उनको परेशान करेंगे तो उस कंडीशन में कोई भी वॉलिंटियर्स मन लगाकर काम नहीं कर पाएंगे और इस मुसीबत भरे समय में वह हताश होकर निराशा की तरफ बढ़ते चले जाएंगे और काम करने में उनका योगदान बहुत ही सराहनीय है जो कि अपने परिवार को छोड़कर हमारे लिए जी जान से दिन रात मेहनत कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *