CBSE स्कूलों की ऑनलाइन क्लास से खुली पोल।

  • CBSE  की ऑनलाइन क्लास से स्कूलों की पोल खुली

जैसा कि हम सबको पता है की सीबीएसई ने सभी स्कूलों को यह आदेश दिए हैं कि आप घर से ऑनलाइन क्लास स्टार्ट करें और अपने सिलेबस को कंटिन्यू रखे हैं ताकि बच्चों की पढ़ाई में कोई व्यवधान नहीं आ पाए इसलिए बहुत से स्कूल इसका पालन करते हुए ऑनलाइन क्लास शुरू भी कर दिए हैं लेकिन बहुत से स्कूल ऐसे हैं जो डर की वजह से ऑनलाइन क्लास स्टार्ट नहीं कर पाए हैं और तरह-तरह के बहाने बना रहे हैं।

Advertisement
Cbse online class

जिन स्कूलों ने अभी तक ऑनलाइन क्लास स्टार्ट नहीं की है वह स्कूल सीबीएसई के सक शिकार हो रहे हैं जिसकी वजह से CBSE board  उन स्कूलों पर नजर बनाए हुए हैं

 आपको यहां बताते चलें कि जो स्कूल अभी तक ऑनलाइन क्लास स्टार्ट नहीं कर पाए हैं उनका एक दर सबसे बड़ा है की क्लासों में 40 बच्चों से ज्यादा बच्चे हैं और यहां पर अगर वह ऑनलाइन क्लास स्टार्ट करते हैं और अगर 40 से ज्यादा बच्चे उस एप पर जुड़ जाते हैं तो वह ऐप काम करना बंद कर देता है और सीबीएसई ट्रैकर के जरिए सीबीएसई के शिकंजे में वे स्कूल आ सकते हैं क्योंकि ज्यादातर स्कूलों में 40 से ज्यादा ही बच्चे हैं 55 से 60 _65 बच्चे एक क्लास में होते हैं पोशाक पर जैसे ही साथ 65 बच्चे ऑनलाइन आ जाएंगे तो सीबीएसई बोर्ड को पता चल जाएगा और स्कूलों के लिए यह बहुत ही ज्यादा घातक सिद्ध हो सकता है सीबीएससी बोर्ड बार-बार स्कूलों से बोल रहा है की ऑनलाइन क्लास स्टार्ट की जाए लेकिन स्कूल हैं उस डर की वजह से ऑनलाइन क्लास स्टार्ट नहीं कर पा रहे हैं और नेटवर्क स्लो होने का बहाना बना रहे हैं।

 यहां पर आपको बताते चलें कि अगर सीबीएसई बोर्ड इस तरह  का कोई भी बहाना बना रहे हैं तो वह यह जान लें कि सीबीएसई की नजर उन स्कूलों पर पूरी तरह से टिकी हुई है और उनकी पूरी एक्टिविटीज को अपने यहां पर नोट कर रहा है  जिसकी रिपोर्ट सब कुछ नॉर्मल होने के बाद में ली जा सकती है और स्कूलों को लेने के देने पढ़ सकते हैं।

 स्कूलों ने लगाए यह जुगाड़
 अब यहां पर स्कूल जुगाड़ ढूंढ रहे हैं और उस जुगाड़ के तहत क्लासों को अल्टरनेट क्लास प्रोवाइड करा रहे हैं जैसे कि आधे बच्चों को 1 दिन क्लास दी जा रही है और बच्चे हुए आधे बच्चों को एक दिन छोड़कर दूसरे दिन क्लास दी जा रही है जिससे कि सभी बच्चों की पढ़ाई हो पा रही है और सीबीएसई बोर्ड से भी बचने की कोशिश हो रही है जो कि आने वाले समय में नाकाम साबित होगी इसके अलावा टीचर्स अपने मोबाइल से वीडियो बनाकर बच्चों को व्हाट्सएप पर भेज रहे हैं ताकि चैप्टर से संबंधित वीडियो से पढ़ाई की जा सके।
 CBSE  बोर्ड  लेगा रोज रिपोर्ट
 सीबीएसई ने जानकारी दी है कि स्कूल के ऑनलाइन क्लास की सभी रिपोर्ट ली जाएंगी की ऑनलाइन क्लास कितने दिन चली और अप्रैल में कितने दिन नहीं चल पाई और कितने विद्यार्थी इस क्लास में अवेलेबल थे कौन-कौन से चैप्टर पढ़ाई गए थे किस टीचर ने पढ़ाया था उस टीचर का नाम और टीचर ने किस तकनीक का सहारा लिया था ऑनलाइन क्लास पढ़ाने के समय यह सब जानकारी सीबीएसई बोर्ड एक रिपोर्ट के माध्यम से लेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *