दिल्ली हिंसा के समय कांस्टेबल पर पिस्टल तानने और फायरिंग करने वाला दंगाई शाहरुख शामली से गिरफ्तार।

Delhi Hinhsa Shahrukh

 दिल्ली हिंसा में दीपक दहिया हेड कांस्टेबल पर पिस्टल तानने माला और दिल्ली हिंसा में दंगे के दौरान फायरिंग करने वाले शाहरुख को स्पेशल क्राइम ब्रांच ने शामली से गिरफ्तार कर लिया गया है।

Advertisement

  जैसा कि आपको भली-भांति ज्ञात है कि दिल्ली में हिंसा भड़कने पर बहुत ही भारी मात्रा में जान और माल का नुकसान पहुंचा है।  जब दंगाई दिल्ली की सड़कों ,  दुकानों पर घरों पर अपना कहर बरपा रहे थे उसी दौरान शाहरुख नाम का शख्स  वहां पर दंगे को भड़काने में एह म भूमिका निभा रहा था उसी समय हेड कांस्टेबल दीपक का सामना शाहरुख नाम के दंगाई से होता है और शाहरुख हेड कांस्टेबल के ऊपर पिस्टल  तान देता है और फायरिंग भी करता है लेकिन गनीमत यह रही की हेड कांस्टेबल दीपक  के ऊपर फायरिंग नहीं की।
इस दंगाई शाहरुख की वीडियो फायरिंग करते हुए और पिस्टल तान ते हुए सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है और क्राइम ब्रांच जगह-जगह छापे भी मार रही है लेकिन इसके मोबाइल की लोकेशन बार-बार चेंज हो रही थी जिसकी वजह से क्राइम ब्रांच को थोड़ा समय लग गया लेकिन आज क्राइम ब्रांच ने शाहरुख को शामली से गिरफ्तार कर लिया गया है उम्मीद की जा रही है कि इस मामले से जुड़े हुए तार बहुत जल्द ही सुलझ जाएंगे और असली मुजरिम तक जल्द ही पहुंचा जा सकेगा।

Delhi Hinhsa Shahrukh

बताया जा रहा है कि शाहरुख का इतिहास 1 क्रिमिनल  के तौर पर जाना जाता है क्योंकि इसके पिता पर पेन किलर पेडलर होने का केस चल रहा है और उस पर कई केस दर्ज भी हैं लेकिन अभी तक शाहरुख पर कोई भी क्रिमिनल केस नहीं है शाहरुख की उम्र अभी 27 साल है और वह सीलमपुर के चौहान बागड़ का रहने वाला है दिल्ली के उत्तर पूर्वी इलाके में हुई हिंसा में इसकी बहुत अहम भूमिका रही है क्योंकि आप यही अंदाजा लगा सकते हैं कि करीब 80 से ज्यादा लोगों को गोली लगने से घायल किया गया है और जो लोग हिंसा में शामिल थे उनमें से काफी लोगों की पहचान कर ली गई है और छापेमारी भी चल रही है क्राइम ब्रांच बहुत जल्द ही सबको  गिरफ्तार कर लेगी।

 उधर सदन की बैठक में भी दिल्ली हिंसा को लेकर काफी बवाल हुआ और चर्चा को शुरू करने की मांग की गई लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने प्रश्नकाल चलाने का निर्देश दिया इसी दौरान विपक्ष के सदस्य हिंसा पर तुरंत चर्चा शुरू करने की मांग करने लगे।
 दिल्ली हिंसा के दौरान एक ऐसी तस्वीर निकल कर आ रही है की जिसने भी इस को अंजाम देने की रूपरेखा तैयार की है वह बहुत ही शातिर और सामाजिक आदमी नहीं हो सकता और ना ही भारत माता और अपने वतन के लिए वफादारी उसके खून में नहीं हो सकती इसीलिए आज आम जनता की सरकार और प्रशासन से यही मांग है कि ऐसे लोगों को कतई भी बख्शा नहीं जाना चाहिए और ऐसे लोगों को चुन चुन कर सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए चाहे वह किसी भी पार्टी किसी भी धर्म किसी भी समाज से क्यों ना आता हो वह शख्स इस मातृभूमि पर जिंदा रहने के लायक नहीं है।
 जय हिंद
जय भारत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *